Articles

खुशी जिवन जिबैके रहस्य ? ८५ सालके हावर्ड अध्ययनसँ

पैसा, रोजगारीके उपलब्धि, व्यायाम, या स्वस्थ आहार खुशी जिवनके कारण नइँ छै।

सन 1938 मे हार्वर्डके शोधकर्ता दशको तक चलल अध्ययन पर पता लागल जे जीवन मे हमरा सबकेँ की खुश करै छै ?

Ad

शोधकर्ता सब दुनिया भररिके 724 प्रतिभागीके स्वास्थ्य रिकॉर्ड एकत्रित कएलकै आओर दू सालके अन्तराल पर प्रत्यके व्यक्तिके जीवनके बारेमे विस्तृत सवाल पूछलकै।

लोक जे आइ धरि जे सोचैत रहए, ठीक ओकर विपरीत परिणाम एलै, पैसा, रोजगारीके उपलब्धि, व्यायाम, या स्वस्थ आहार खुशी जिवनके कारण नइँ छै।

85 सालके अध्ययनके माध्यमसँ निष्कर्ष पता चलल छै, ओ अछि:

सकारात्मक सम्बंध हमरा सब के खुश, स्वस्थ रखैत अछि। आ हमरा सबकेँ बेसी दिन जीबयमे मदद करै छै।

अपन सम्बन्धके मापन कोना करी ?

मनुष्य सामाजिक प्राणी छियै। हमसब अपन आवश्यकता असगरे पुरा नइँ करि सकै छी। एकर लेल दोसरसँ सहयोग मागंय परत।

सम्बन्धमे बढ़िया प्रभाव करएबला 7 तत्वसभ :

खुशी जिवन जिबैके रहस्य ? कि छै, केना सुधारल जाए ..

  1. रक्षा आ सुरक्षा : सोचू, जँ आधा रातिमे डराएल नींद खुलत तँ केकरा फोन करब ? संकटके क्षणमे रातिमे केकरा दिस मुड़ब ?
  2. सिखैत रहनाइ : नवका चीजकेँ कोशिश करय लेल, मौका लेबय लेल, अपन जीवन के लक्ष्य के पूरा करय लेल के प्रोत्साहित करै य ?
  3. भावनात्मक साथी आ गोप्यता : अहाँक बारेमे सब किछु (या बेसी बात) के जनैत अछि ? जखन अहाँ नीचाँ महसूस क’ रहल छी तखन केकरा फोन क’ सकैत छी आ ईमानदारीसँ कहब जे अहाँ केहन महसूस क’ रहल छी?
  4. पहिचानके समान साथी : की अहांँकें जीवनमे कोनो एहन व्यक्ति छै जे अहाँसँ बहुत अनुभव साझा करै छै आ जे अहाँ केँ, इ भावना के मजबूत करयमे मदद करय छै की अहाँ के छी ?
  5. रोमांटिक अन्तरंगता : की अहाँ अपन जीवन मे रोमांटिक अंतरंगताक मात्रासँ संतुष्ट महसूस करैत छी ?
  6. सहयोग करू: यदि अहाँ कें किच्छू विशेषज्ञता कें जरूरत छै या कोनों व्यावहारिक समस्याकेँ हल करयमे मदद (जेना, गाछ रोपनाय,अपन अभियान करू,दोसरके बिना अपेक्षा सहयोग करू, अपन वाईफाई कनेक्शन ठीक करनाय) कें जरूरत छै त अहां केकरा लग जायब ?
  7. मस्ती आ आराम : के हँसाबैत अछि? अहाँ केकरा फोन करैत छी सिनेमा देखय लेल या रोड ट्रिप पर जेबाक लेल जे अहाँ के जुड़ल आ सहज महसूस कराबैत अछि ?

उपर उल्लेख कएल ७ सातटा अंकपर विचार करू, अहाँके जिबनमे ७ मध्ये कोन नइँ अछि या कोन बहुत अछि ? चलू इ कामकेँ सरल बनाबै छी। एगो फोटो फर्म दै छी जइमे, अहाँ (+) वा (-) मे संकेत करब। जे छै तइमे ( +) , जे नइँ तइमे (-) संकेत भरबै, भरबै न ?

happy index forum
image/ CNBC

अपन जीवनमे लोक तक पहुँचैमे नइँ डराउ। चाहे ओ कोनो विचारणीय प्रश्न हो वा ध्यान क्षण, ओइ सम्बन्धकेँ गहींर करैएमे कहियो देरी नइँ होइ छै जे अहाँक लेल महत्वपूर्ण अछि।

Source: (CNBC – Makeit )

गजेन्द्र गजुर

Gajendra Gajur [गजेन्द्र गजुर] is News Editor of Ilovemithila.com . Maithili Language Activist. He is Also Known for His Poetry. One of the Founder of Music Maithili App. गजेन्द्र गजुर एहि वेबसाइटक समाचार संयोजक छथि। कवि सेहो छथि। Email- [email protected],

Related Articles