Nepali student in mask

कोरोना भाइरसके दोसर लहर रोकैक लेल कहैत सरकार बड़का सहरके विद्यालय बन्द करि अनलाइन कक्षा सञ्चालनके प्रस्ताव लाबने अछि। तइसँ प्याब्सन नेपाल विरोध कएने अछि। स्वास्थ्य तथा जनसंख्या मन्त्रालय शनिदिन Covied-19 संकट व्यवस्थापन केन्द्र (CCMC) बैठकमे प्रस्ताव ल’ गेल रहए। ओइ प्रस्तावकेँ सीसीएमसी आगु नइँ बढ़ेने छै। शिक्षा मन्त्रालय सम्बन्धित निकाय सङ्ग बातचीत करि ओइ प्रस्तावकेँ अगाड़ी बढ़ाबैके तयारी करि रहल बताैने अछि।

एम्हर प्याब्सन देश भरिके सभ विद्यालय बन्द कएलापर शैक्षिक श्रेत्रमे नम्हर असर पड़तै कहिते विरोध कएलक। पर्याप्त सावधानी अपनाएक विद्यालय सञ्चालन करैलेल आ तकर लेल वातावरण बनादैलेल सरकारसँ माग कएलक अछि।

प्याब्सनके अध्यक्ष टीकाराम पुरी आ  महासचिव कुमार घिमिरे  विज्ञप्ति  निकालैत  सुरक्षा  अपनाबैत  विद्यालय  हाल चलि रहल जकाँ सञ्चालन कर’ देबै पड़तै आओर  तइके  लेल  सरकार सहजकर्ताके  भूमिका निर्वाह लेल  माग राखने छथि ।

‘पुरा देशभरि कोरोना संकमणक वृद्धि दर एकरङ्ग  नइँ भेल  यथार्थकेँ  सेहो  देखैत  बहुत जरूरी भेलापर  सम्बन्धित विद्यालय अथवा सम्बन्धित पालिकामे मात्र किछ   समयके  लेल  मात्र प्रतिवन्धके  व्यवस्था करि  अन्य ठाममे  आसानीसँ   शैक्षिक संस्थासभ स्वास्थ्य सावधानीके उपायसभ अपनाबैत  सुरक्षित  रूपसँ विद्यालय सञ्चालन होइबला वातावरण बना दैकेलेल नेपाल सरकारसँ माग करै छी,’ विज्ञप्तिमे  उल्लेख अछि ।

प्याब्सनद्वारा विद्यार्थी, शिक्षक आओर कर्मचारिकेँ खोप  व्यवस्था करैके लेल, स्वास्थ्य मापदण्ड पूर्णतः पालना करबै मुदा बन्द कर’  नइँ हएतै । ‘सेहो लिखल अछि।

एकटा उत्तर भेजु

कृपया अहाँ प्रतिक्रिया लिखू
कृपया अहाँ अपन नाम लिखू