Wednesday, January 20, 2021
Home Poem

Poem

स्वामी शैलेन्द्रक दूगोट मैथिली कविता

१. सर्वस्वीकारतोँ होश कर तोँ होश कर, अबोधके बोध तोँ क्षुद्र सार अहम् विस्तार कामके रूप तोँपल-पल हरेक पल विष अग्निके आहार तोँ साँस उधार देह...

‘यात्री’ क मैथिली कविता ‘विलाप’

● विलापनान्हिएटा छलहुँ, दूध पिबैत रही राजा-रानीक कथा सुनैत रही घर-आङ्गनमे ओंघड़ाइ छलहुँ कनिया-पुतरा खेलाइ छलहुँ मन ने पड़ै अछि, केना रही लोक कहै अछि, नेना रही माएक कोरामे दूध...

अशोक अमनक पाँचटा मैथिली कविता

 पहिल मैथिली कविता● नेहोरा हे! हमर समाज हम दूर भऽ जाए चाहै छी तोहर छत्रछायासँ तोहर बहुरुपी परिधिसँ कतहुँ आन ठाम आ बनबऽ चाहै छी अपन अलग टोल हँ हौ मानवताक टोल तोरासँ...

मोहन महतो कोइरीके पाँचटा मैथिली कविता

१) शिर्षक : परदेश मे आबि गेलौ माँए दूर्गा पूजा, हम छी गे परदेश मे । छुटि गेलौ सब पिङ आ झिझिया, छी हम दु:खक कलेश मे ।।अबिते...

अहमद साहिलक पाँचटा कविता

१. हम कठोर हम एकटा उपाइ पता लगेने छी अइ भीड़सँ भाग' लेल[youtube https://www.youtube.com/watch?v=2Yu3Hlbta8o]जखन हम घरसँ बाहर निकलैत छी हम छोड़ि दै छियै अपना भीतरक किछु अवशेषकेँ केवाड़ीक दोगमेजखन...

राकेश कुमार झाक पाँचटा कविता

१. मधेशक दशा – बोधहे चन्द्रचूड , हे जगन्नाथ , हे विश्वम्भर विश्वनाथ , हे महाकाल , हे भुतनाथ , हे प्रएलंकार लोकनाथ, हे दीनबन्धु,की कहि...

विजेता चौधरीक पाँचटा कविता

पहिल कविता- आह्वाहन   शब्दक अगिनबान मारि अक्षरक दंशसँ बेहोशीमे पडल, भकुआएल सभकँे समयक थापड मारि जगेबाक दुस्साहसमे डर होइत अछि हम कविता एतेक कठोर एतेक तिख्ख नहि लिखली जे मनुक्खक गराक काँट भऽ...

रमेश रञ्जनक पाँचटा मैथिली कविता

https://www.youtube.com/watch?v=A2v-HCne-ZI&t=81sरमेश रञ्जनक अप्रकाशित कविता पहिल कविता - अन्तर्य आगुंरक स्पर्शठोढ़क कम्पनहृदयक गुदगुदीप्रेम/सिर्जनकआनन्ददायी स्मरणएखनो अतितकदुधिया इजोतक स्नानअह्लादक अछि पुतरीक नाचचिड़ैयक गायनहिलोराक आसजीवनयात्राकसुदुर अतीतमेहेरा गेल बुझाइए नइँ बिसराएल अछिबर-कनियाँक खेलखेलक...

देवेन्द्र मिश्रक पाँचटा मैथिली कविता

देवेन्द्र मिश्रक पाँचटा मैथिली कवितापहिल कविता  "ई सभक मैथिली"जे जहिना बाजए ।सएह छियै मैथिली ।।जे अहाँ बजैछी, सएह छियै मैथिली ।।ई हमर मैथिली,ई अहाँक...

मैथिली बाल कविता:अक्षय आनन्द सन्नी

पाँचटा बाल कविता प्रस्तुत अछि... बाल कविता १. सिखा दे हमरो भानस-भातमम्मी सूनै एगो बात,सिखा दे हमरो भानस-भातसिखा दे हमरो चाउर फटकबदालि सूप मे हमहूं...

मैथिली कविता: डा.शेफालिका वर्मा

प्रस्तुत अछि गद्य मैथिली कविता... मैथिली कविता १ 'मधुकरी एहि विश्व विपिनक हम सरल शेफालिका छी । ख़सि पडल आकाससँ जे विकच तरकमालिका छी ‘ ........ आरसी...

Most Read

गाम गामसँ आवाज एबाक चाही, मैथिली जिन्दाबाद रहबाक चाही : MiLaF Nepal श्रंखला-38

अवसर पर सुभाष विरपुरिया कहलनि जे राजविराजेमे केन्द्रित कायृक्रमसभ आब शहरसँ बाहर आनल गेल अछि आ ई निरन्तर रहत । प्रमुख अतिथिक आसनसँ बजैत विजय यादव कहलनि जे हमसभ अपन भाषाक प्रति सजग छियै

पाँचटा मैथिली कविता : कवि रवीन्द्र मण्डल ”मञ्जय”

मैथिली भाषा विविधताके स्वर्ग अछि। जाहिमे अनेक रङ्ग देखबामे अबैत छै। एहि ठाम प्रस्तुत maithili language poems तेहने स्वर्गके एकटा रूपके दर्शण करबाओत ।...

गोरी अहाँसँ हमरा प्रेम भ’गेलै : शिवानी भगतके गीति भिडियाे

छाेटेसँ गीत गायनमे अभिरूचि रहल सुमधुर स्वरके धनि शिवानी भगतके मैथिली भिडियो  गीत सार्वजनिक भेल अछि। एहि बेर नयाँ शैलीमे गीत...

मैथिली प्रेम गीति भिडियो ‘नैना नुकाकऽ जे तकलौँ .. भेल रिलिज’

" नैना नुकाकऽ जे तकलौँतँ प्रीत भऽ गेलैकिछु अहाँ जे कोकिलसन बजलौँतँ गीत भऽ गेलैअहाँसनके जे प्रिये, मनमीत...