जितिया पावनि बड़ भारी धीयापुताकेँ ठोकि सुताबी अपने खाइ भरि थारी

Back to top button